Kāmāyanī-rahasya

Cover
Iṇḍiyana Presa (Pablikeśansa), 1963 - 531 Seiten

Im Buch

Was andere dazu sagen - Rezension schreiben

Es wurden keine Rezensionen gefunden.

Andere Ausgaben - Alle anzeigen

Häufige Begriffe und Wortgruppen

अत अधिक अपनी अपने अब अर्थात् अलंकार आवेग इस प्रकार उत्पन्न उनके उस उसकी उसके उसे एक ओर और रति के कर करता करती है करते हैं करने का काम किन्तु किया किसी की कुछ के कारण के भाव अभिव्यक्त के रूप में के लिए के समान के साथ को कोई क्या गया है गयी छन्द जब जल जा जाता है जाती जीवन जैसे जो तक तथा तात्पर्य तुम तो था थी थे दृष्टि ध्वनि नहीं ने पद्य पर प्रकृति प्रयुक्त है फिर भाव अभिव्यक्त हैं भी है मधुर मन मनु मनु के मुझे मेरी मेरे मैं यह यहाँ यही या रति के भाव रहा है रही रहे हैं रूपक लज्जा वह विषाद वे वैसे ही व्याख्या-(१ श्रद्धा समय सुन्दर से सौन्दर्य स्मृति ही हुआ है हुई हुए हूँ हृदय है अतः है और है कि है क्योंकि हो हो गया हो जाता होकर होता है होती होने

Bibliografische Informationen